ये लोग रहें सावधान! शनि के राशि परिवर्तन से बदल जाएगी इनकी किस्मत, ​जानिए शनि का ढैया..

ये लोग रहें सावधान! शनि के राशि परिवर्तन से बदल जाएगी इनकी किस्मत, ​जानिए शनि का ढैया..

सुना है जब शनि की चाल बदलती है तो वह लोगों जमीन से आसमान और आसमान से जमीन तक ला देता है। और जिसके पीछे लग जाए तो फिर उसका राम ही रखवाला होता है। इस साल शनि का राशि परिवर्तन किसके लिए खास और किसके लिए बुरा रहने वाला इसके बारे में विस्तार से बता रहे हैं ज्योतिषाचार्य पंडित हरीश शर्मा…

वृश्चिक राशि वालों की साढ़ेसाती 24 जनवरी को समाप्त हो जायेगी। धनु, मकर और कुम्भ राशि वालों पर शनि की साढ़ेसाती का प्रभाव रहेगा। जिसमें कुम्भ राशि पर शनि की साढ़ेसाती का पहला चरण, मकर पर दूसरा, और धनु राशि पर तीसरा चरण रहेगा।

वृष व कन्या राशि वालों की ढैया समाप्त हो जाएगी और मिथुन व तुला राशि वालों पर शनि की ढैया का प्रभाव रहेगा। शनि मकर और कुम्भ राशियों के स्वामी हैं। जिसमें से शनि मकर में गोचर करेंगे। कुम्भ शनि की स्वराशि व मूल त्रिकोण राशि है।

शनि ग्रह को वैदिक ज्योतिष में कर्म व न्याय का कारक माना गया है। ज्योतिष में शनि ग्रह का सम्बन्ध ऑटो मोबाईल बिजनेस, धातु से संबंधित व्यापार, इंजीनियरिंग, अधिक परिश्रम करने वाले कार्य, खनिज तेल, कर्मचारी काली वस्तुएं, लोहा, कैमिकल प्रॉडक्ट्स, कोयला, प्राचीन वस्तुएं आदि से है। शनि के स्थान परिवर्तन करने से सभी राशियों पर उसका अच्छा या बुरा प्रभाव देखने को मिलता है।

राशियों पर क्या प्रभाव होगा यह आपको बता रहे हैं।

मेष राशि में शनि गोचर का फल :

शनि आपके दशम भाव में गोचर कर रहा है। दशम भाव विशेष रूप से कर्म को दर्शाता है, और शनि भी कर्म के ही स्वामी हैं। आपका कार्यक्षेत्र बहुत अच्छा रहेगा। नये काम के लिए समय बहुत अच्छा है। अच्छे परिणामों के लिए आपको कड़ी मेहनत करनी पड़ेगी। स्वास्थ्य की दृष्टि से भी उतार चढ़ावों का सामना करना पड़ सकता है।

वृषभ राशि में शनि गोचर का फल :

शनि आपके नवम भाव में गोचर कर रहा है। नवम भाव विशेष रूप से व्यक्ति के भाग्य को दर्शाता है, भाग्यस्थान से गोचर करते हुए पिछले ढाई साल से चली आ रही परेशानियों का अंत करेंगे, जो लोग नौकरी परिवर्तन या नौकरी की तलाश कर रहे हैं, आय के साधन बढ़ेंगे। नया व्यापार भी शुरू कर सकते हैं। जिन्हें विदेश जाकर नौकरी या पढ़ाई करनी है, उनके लिए भी यह समय अच्छा है।

मिथुन राशि में शनि गोचर का फल :

शनि आपके अष्टम भाव में गोचर कर रहा है। शनि की ढैया आपकी राशि को लगने जा रही है, इसलिए प्रत्येक कार्य को सोच समझ कर करें, परंतु अंतिम परिणाम शुभ रहेगा क्योंकि शनि आपके भाग्येश भी हैं। नौकरी में विवादास्पद स्थितियों से स्वयं को दूर रखें। विदेश यात्रा के लिए बेहतर रहेगा। इस दौरान दुर्घटना होने की संभावना है। लंबे समय से चले आ रहे, मामलों का निपटारा होने के आसार हैं।

कर्क राशि में शनि गोचर का फल :

शनि आपके सप्तम भाव में गोचर कर रहा है। आपके प्रत्येक कार्य में विलम्ब की स्थिति रहेगी, अधिक आलस्य करेंगे। इस वर्ष किसी महिला मित्र की वज़ह से आपको फायदा होगा। नए व्यापार में सोच समझकर निर्णय लें। कोई हानि होने की संभावना है। आंखें, कंधे हड्डियों से संबंधित रोग परेशान कर सकते हैं। आर्थिक पक्ष भी ठीक नहीं।

शनि गोचर 2020 का सिंह राशिफल :

शनि आपके षष्ठ भाव में गोचर कर रहा है। स्वास्थ्य का ध्यान रखना आपके लिए आवश्यक है। गुप्त शत्रु इस समय बलवान होकर मानसिक परेशानियां देंगे, पर आपको हरा नहीं पाएंगे। शिक्षा से जुड़े छात्रों को सफलता दिलाएगा, मेहनत का भरपूर लाभ मिलेगा। नौकरी व व्यवसाय में प्रगति होने के योग हैं। धन संबंधित मामलों के निर्णय सोच-समझकर लें। लीवर, किडनी, डायबिटिक के रोग परेशान कर सकते हैं।

कन्या राशि में शनि गोचर का फल :

शनि आपके पंचम भाव में गोचर कर रहा है। व्यवसाय व यश में वृद्धि करेंगे। नए व्यापार आरंभ हो सकते हैं, शिक्षा की दृष्टि से अच्छे परिणाम मिलेंगे। नौकरी में कई चुनौतियों का सामना करना पड़ सकता है। माता-पिता का सहयोग मिलेगा। पेट से सम्बंधित परेशानियां व घर के बड़े-बुजुर्गों का स्वास्थ्य खराब हो सकता है।

तुला राशि पर शनि गोचर का फल :

शनि आपके चतुर्थ भाव में गोचर कर रहा है। आपकी राशि पर शनि की ढैया चलेगी। नौकरी में कार्य का दबाव अधिक रहेगा। पारिवारिक कारणों से भी व्यवसायिक स्थल पर परेशानियां आ सकती हैं। व्यापार के लिए अच्छे अवसर मिल सकते हैं। विदेश यात्रा के भी योग बन सकते हैं। और आर्थिक स्थिति मजबूत हो सकती है। पेट और त्वचा संबंधी रोग परेशान कर सकते हैं।

वृश्चिक राशि में शनि गोचर का फल :

शनि आपके तृतीय भाव में गोचर कर रहा है। नौकरी व व्यवसाय में प्रगति के अवसर मिलेंगे। मान-प्रतिष्ठा बढ़ेगी, भाग्य का पूर्ण सहयोग प्राप्त होगा। काम को परिपूर्ण करने के लिए आलस का त्याग बेहद जरूरी है, अच्छे कामों में धन खर्च हो सकता है, लंबे समय से रुके हुए कार्यों में सफलता मिलेगी। स्वास्थ्य अच्छा रहेगा और शिक्षा के क्षेत्र में भी सफलता मिलेगी।

धनु राशि पर शनि गोचर का फल :

शनि आपके द्वितीय भाव में गोचर कर रहा है। विशेष सतर्कता और मेहनत के साथ कार्य करें, तभी यह शनि आपको सफलता दिलाएगा। आर्थिक तंगी का सामना करना पड़ सकता है, इसलिए सोच समझ कर खर्च करें। ज़मीन जायदाद से जुड़े मामलों में लाभ प्राप्त होगा। कोई फैसला लेने से पहले अच्छी तरह विचार करें, आर्थिक क्षेत्र में पिता का सहयोग मिलेगा।

मकर राशि पर शनि गोचर के फल :

आपकी राशि पर शनि गोचर के कारण साढ़ेसाती का दूसरा चरण प्रारम्भ होगा जिस वजह से आपका स्वास्थ्य प्रभावित हो सकता है। आपको डायबिटीज, लीवर या अस्थमा जैसी बीमारियां परेशान कर सकती हैं। व्यापार के लिए यह गोचर नए अवसर लेकर आएगा, और आर्थिक स्थिति में भी लाभ होगा, पार्टनरशिप में थोड़ा सावधान रहें। विदेश में स्थाई रूप से जाकर रहने की इच्छा रखने वालों के लिए समय उत्तम है।

कुम्भ राशि पर शनि के गोचर का फल :

द्वादश भाव का स्वामी होकर गोचर कर रहा है। आपकी साढ़ेसाती की प्रथम ढैय्या शुरू हो जाएगी। व्यवसाय में किसी बड़े निवेश के लिए सोच समझ कर ही आगे बढ़ें। नौकरी को बदलने के लिए समय बेहतर नहीं है। नये कार्य को करने से पहले किसी सीनियर की सलाह अवश्य लें। घुटनों के रोग तथा आंखों से संबंधित रोग परेशान कर सकते हैं।

मीन राशि के पर शनि गोचर का फल :

शनि आपके एकादश भाव में गोचर कर रहा है। आपकी निर्णय लेने की क्षमता बढ़ेगी। कार्यस्थल पर सब का सहयोग मिलेगा। आय के स्त्रोत बढ़ेंगे। यदि नौकरी बदलना चाहते हैं तो यह उपयुक्त समय है। व्यापार से जुड़े बहुत से नए अवसर आएंगे और आपको आगे बढ़ने का मौका मिलेगा। स्वास्थ्य के लिए सामान्य रूप से अनुकूल समय है।

Share

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *