आईसीयू की तरह दिखे प्लेन, पहले ही दिन 82 उड़ानें करनी पड़ीं रद्द, पढ़ें ये रिपोर्ट

आईसीयू की तरह दिखे प्लेन, पहले ही दिन 82 उड़ानें करनी पड़ीं रद्द, पढ़ें ये रिपोर्ट

– आज से शुरू की गई थी देशभर में घरेलु हवाई सेवा..

आज से देशभर में घरेलु उड़ानों की अनु​मति के बाद एयरपोर्ट पर चहलकदमी दिखाई दी। करीब 2 महीने के लंबे लॉकडाउन के बाद आज विमान हवा में उड़ते दिखाई दिए। लेकिन कुछ लोगों का कहना है कि उनके अंदर का नजारा आईसीयू की भांति दिखाई दिया। चूंकि प्लेन के भीतर एयरहोस्टेस भी फेस शील्ड, के साथ पीपीई किट में दिखाई दीं। अंतर्राष्ट्रीय​ दिल्ली हवाई अड्डे की बात करें तो आज के ​दिन यहां 243 उड़ानों का चार्ट बनाया गया था। जिनमें से पहले ही दिन करीब 82 उड़ानों को रद्द कर दिया। इससे यात्रियों को खासा परेशानी का सामना पड़ा।

ये है गाइडलाइन :

बता दें कि एयरपोर्ट ऑथोरिटी ऑफ इंडिया की ओर से पहले ही शुरू की गई उड़ानों को लेकर विशेष सावधानियां बरतने और नियमों का सख्ती से पालन करने की गाइड़लाइन जारी कर दी गई थी। वहीं स्वास्थ्य मंत्रालय से साफ हिदायत दी थी कि यदि किसी व्यक्ति में कोरोना के लक्षण दिखाई देते हैं तो उसे एयरपोर्ट के अंदर प्रवेश न दिया जाए। सामान्य स्वास्थ्य जांच के बाद ही एयरपोर्ट पर एंट्री दी जाए एवं गंतव्य पर पहुंचने के बाद 14 दिन तक क्वारेंटाइन का पालन करवाया जाएगा।

इसलिए रद्द करनी पड़ी :

घरेलु उड़ानें शुरू होने के पहले ही दिन करीब 82 उड़ानों को रद्द कर दिया। इनमें ज्यादातर उड़ानें मुंबई और कोलकाता की थीं। यात्रियों के पूछने पर पता चला कि मुंबई जाने वाली तीन फ्लाइट्स को एकसाथ क्लब कर दिया गया है। क्योंकि मुंबई में एक दिन में 25 से ज्यादा फ्लाइट्स लैंड नहीं कर सकेंगी। इससे यात्रियों को खासा परेशानी का सामना करना पड़ा। क्योंकि इन यात्रियों को चैक इन के लिए काफी देर पहले एयरपोर्ट पहुंचा पड़ा। वहीं 3 से 4 घंटे इंतजार करने के बाद जब उन्हें पता चला कि उनकी फ्लाइट रद्द हो गई है तो उन्हें काफी मायूसी भी झेलनी पड़ी।

यात्रियों ने बताया कि एयरपोर्ट प्रबंधन या एयरलाइंस कंपनी को इस बारे में पहले अवगत कराना चाहिए था। ताकि इस तरह की पॉब्लम्स न झेलनी पड़ती। वहीं बंगाल और आंध्रप्रदेश की सरकारों के साथ क्वारेंटाइन को लेकर सहमति न बन पाने के कारण अब इन दो राज्यों के लिए उडानें कल यानि मंगलवार से उड़ान भर पाएंगी।

Share

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *