कमाई के चक्कर में NHAI ने ‘फौजियों’ को भी नहीं बख्शा, अब वसूलेगा टोल..

कमाई के चक्कर में NHAI ने ‘फौजियों’ को भी नहीं बख्शा, अब वसूलेगा टोल..

सरकार ने जब से एनएचएआई (NHAI) टोल यानि नेशनल हाइवे अथॉरिटी ऑफ इं​डिया पर फास्टैग सिस्टम शुरू किया है तब से उसकी कमाई में लगातार बढ़ोतरी देखी जा रही है। मगर सुविधा की बात करें तो कुछ टोल प्लाजाओं को छोड़कर बाकी पर आज भी वाहनों की कतारों में कुछ खास बदलाव देखने को नहीं मिला है। उम्मीद है आगे यह व्यवस्था सुधरेगी। ऐसे में एनएचएआई की ओर से बनाए जा रहे नित नए नियमों से भी जनता खासी परेशान है।

इसके बावजूद अब एनएचएआई की नई गाइड लाइन के अनुसार फौजियों को अपने निजी वाहन में यात्रा करने के दौरान भी टोल टैक्स का भुगतान करना होगा। आपको बता दें कि ऐसा नहीं है कि एक फौजी के लिए टोल टैक्स का भुगतान करना कोई बड़ी बात हो। मगर इसे उनके सम्मान के रूप में देखा जाता था, इसलिए उन्हें टोल मुक्त रखा गया था। यह कहीं न कहीं उनके आत्मसम्मान के साथ एक खिलवाड़ है। जिसे पहले शुरू किया और अब अकारण ही बंद भी कर दिया। इससे पहले फौजियों के लिए जिसमें रिटायर्ड फौजी भी शामिल थे, देशभर में कहीं भी सरकारी अथवा निजी वाहन से यात्रा करने पर टोल टैक्स पूरी तरह फ्री होता था। लेकिन अब ऐसा नहीं होगा।

ये निकाला नया नियम :

एनएचएआई की ओर से जारी किए गए बयान के अनुसार अब फौजियों को सरकारी वाहन से यात्रा करने पर ही टोल से छूट दी जाएगी। इसके अलावा यही रूल पुलिसकर्मियों एवं अन्य सरकारी कर्मचारियों को लेकर भी लागू रहेगा। यदि बिना फास्टैग के फास्टैग लाइन से निकलने पर इन सभी से भी दुगुना चार्ज वसू​ला जाएगा। एनएचएआई ने ये भी साफ किया है कि अब से सरकारी वाहनों पर फास्टैग लगवाना अनिवार्य होगा।

ये दिया तर्क :

एनएचएआई ने फौजियों से टोल टैक्स वसूलने के पीछे तर्क दिया है कि कई लोग सेना व पुलिस के फर्जी कार्ड दिखाकर टोल पार कर जाते थे। साथ ही कई लोग ऐसे भी हैं जो अपने परिचित पुलिसकर्मियों के आइकार्ड साथ रखते हैं और उसी की एवज में टोल पार कर लेते हैं। बार बार ऐसी शिकायतें मिलने पर ही इस तरह ही गाइड लाइन जारी की गई है।

इसलिए बढ़ी कमाई :

एनएचएआई की कमाई बढ़ने के वैसे तो कई कारण हैं मगर इनमें से एक कारण ये भी है कि अब 24 घंटे के भीतर उसी टोल से गुजरने पर बराबर का भुगतान करना होगा। जबकि पहले इसके लिए डबल साइड का एकसाथ भुगतान करने की सुविधा थी। जिसमें वाहन चालक को फायदा मिलता था।

Share

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *