‘मोदी’ ने ‘कोरोना’ को लेकर ‘देशवासियों’ से की ये ‘अपील, पढ़ें मोदी की एक-एक बात..

‘मोदी’ ने ‘कोरोना’ को लेकर ‘देशवासियों’ से की ये ‘अपील, पढ़ें मोदी की एक-एक बात..

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने गुरुवार की रात 8 बजे देश को संबोधित करते हुए कहा ​कि 130 करोड़ देशवासियों से कुछ मांगने आया हूं। मैंने जब भी देशवासियों से जो कुछ भी मांगा है पूरा किया है। कोरोना के समय में आए इस संकट को लेकर मुझे आपके आने वाले कुछ सप्ताह चाहिए। आने वाला समय चाहिए। आपको मालूम होगा कि इस बीमारी को लेकर विज्ञान कोई निश्चित उपाय नहीं सुझा पाया है।

ऐसे में न ही कोई वैक्सीन बन पाया है तो चिंता बढ़ना लाजमी है। विदेशों में इसका कहर ज्यादा है। उन देशों में कोरोना से संक्रमित लोगों की संख्या तेजी से बढ़ी है। हमारी सरकार इस वैश्विक महामारी के फैलावे एवं उसके ट्रैक रिकॉर्ड पर पूरी तरह से नजर बनाए हुए है। कुछ ऐसे देश भी हैं जिन्होंने अपने यहां स्थिति को संभाला है। इसमें वहां के नागरिकों की भूमिका भी अहम रही है।

उन्होंने कहा कि विकास के लिए प्रयत्नशील 130 करोड़ की आबादी वाले भारत देश पर इस वैश्चिक महामारी का कोई असर नहीं पड़ेगा, यह सोचना गलत बात ​है। लेकिन इससे बचने के लिए दो अहम बातें हैं जिन पर अमल किया जाए तो हम काफी हद तक इससे बच सकते हैं।
पहला है संकल्प और दूसरा है संयम।

130 करोड़ देशवासियों को अपना संकल्प और दृढ़ करना होगा। एक नागरिक होने के नाते अपने कर्तव्य का पालन करेंगे। साथ ही केंद्र एवं राज्य सरकार की ओर से जारी निर्देशों का पालन करेंगे। पहले हम स्वयं सक्रमित होने से बचेंगे और दूसरों को भी बचाएंगे।

‘हम स्वस्थ तो जगत स्वस्थ’

जिसकी कोई दबाई नहीं है ऐसे में खुद का स्वस्थ बने रहना जरूरी है। और इसके लिए संयम जरूरी है। आज के समय में सोशियल डिस्टेंसिंग बहुत ज्यादा आवश्यक एवं कारगर भी है। अगर आपको लगता है कि आप मार्केट में घूमने से बाहर रहने से सही रहेंगे तो आप अपने परिवार और प्रियजनों के साथ गलत कर रहे हैं।

बहुत जरूरी हो तभी बाहर निकलें। यदि आप सरकारी सेवा, स्वास्थ्य सेवा, जनप्रतिनिधि अथवा मीडियाकर्मी हैं तो आप पर ज्यादा जिम्मेदारी के साथ सक्रियता भी जरूरी है। इनके अलावा बाकी लोगों को आइसोलेट कर लेना चाहिए। एक खास बात ये है कि अपने ​परिवार में 60-65 की उम्र से ज्यादा के बुजुर्गों को बाहर न जाने दें।

‘आपका एक और समर्थन चाहिए — जनता कर्फ्य के लिए।’

यह जनता का जनता के लिए एवं जनता द्वारा लगाया गया जनता कर्फ्य है। आज से दो दिन बाद यानि आने वाले रविवार 22 मार्च को सुबह 7 बजे से लेकर रात्रि 9 बजे जनता कर्फ्य का पालन करना है। इसके तहत आवश्यक सेवा कर्मियों को छोड़कर कोई व्यक्ति घर से बाहर न निकलें, जब त​क कोई ज्यादा ही जरूरी काम न आया हो।

22 मार्च का यह प्रयास देशहित में अपने आत्मसंयम को चेक करने का सफल प्रयोग होगा। आने वाली समस्याओं के लिए भी यह हमें मजबूती प्रदान करेगा। देश की सभी राज्य सरकारें इसका पालन कराने का निर्णय करें।
इसकी जागरूकता के​ लिए देश में मौजूद एनसीसी, धार्मिक एवं कई सामाजिक एवं खेल संगठन अपनी अहम भूमिका निभाएं।

निजी सेवाओं में काम करने वाले लोगों के लिए कहा कि संस्थान कुछ ​दिन के लिए उनके वेतन की कटौती न करें। उन्हें भी अपना ​परिवार चलाना है। अंत में उन्होंने देश को आश्वस्त करते हुए कहा कि देश में जरूरी खान-पान की चीजों की कमी नहीं हो इसके लिए जरूरी कदम उठाए जा रहे हैं। जरूरी सामान के संग्रहण की रट न लगाएं, जिस प्रकार से पहले राशन खरीदते आए हैं वैसे ही जरूरत के हिसाब से खरीदें।

Share

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *