ये 5 योगासन सीख लिए तो आलस कभी पास नहीं आएगा

ये 5 योगासन सीख लिए तो आलस कभी पास नहीं आएगा

योगासन Yoga Posture का महत्व अब सभी भलीभांति जान चुके हैं। नियमित योग करने से शरीर में एनर्जी का संचार तो होता ही है साथ में बीमारियों से भी छुटकारा मिलता है। बताया गया है कि योग के द्वारा बढ़ती उम्र के प्रभाव को भी कम किया जा सकता है। ऐसे में आज हम 5 ऐसे ही योगासनों की बात करेंगे जो आपके आलस्य को दूर करने में सहायक होंगे। इसके अलावा इनसे होने वाले फायदों की भी बात करेंगे।

ये रहे वो पांच आसन :

इंजन दौड़: इस क्रिया के दौरान हाथ पैरों को वैलेट की तरह चलाना पड़ता है। जिससे शरीर के अंदर से इंजन की भांति सांस बाहर निकलती है। इससे फेफड़ों के साथ ही नाड़ियों का भी तेजी से विकास होता है। यदि इसे नियमित रूप से किया जाए तो इससे चेहरा कांतिमान हो जाता है। इसके अलावा शरीर के लिए बहुपयोगी आसन है।

त्रिकोणासन: इस आसन में शरीर के कई अंग शामिल हैं। ऐसे में उन सभी अंगों को अच्छे से स्ट्रैच किया जा सकता है। बता दें कि इस क्रिया को करते समय हिप्स से लेकर कमर, बाजू, कंधे, काव्ज, पैर और फोरआर्म्स आदि काम करती हैं। इस आसन को शारीरिक फंक्शन में सुधार करने के लिए जाना जाता है। गर्दन के दर्द में भी इससे राहत मिलती है।

चेयर पोज: इसका असल नाम उत्कटासन Utkatasana है। जिसे कुर्सी आसन भी कहते हैं। के नाम से जानते हैं। सबसे पहले अपने दोनों पैरों को फैलाकर खड़े हो जाएं। अब अपने दोनों हाथों को आगे की ओर इस प्रकार फैलाएं कि कोहनी मुड़े न। इस स्थिति में आप करीब एक मिनट तक बने रहें।

चक्रासन: इस आसन की सबसे खास बात ये है कि जब भी आप चक्रासन करें तो हथेलियों को नीचे स्पर्श करते समय जल्दबाजी न करें। इस क्रिया को नियमित रूप से किया जाए तो इससे आपकी कमर पतली और लचकदार बन जाती है। यह पेट की चर्बी को भी कम करता है।

नौकासन: सबसे पहले पीठ के बल लेट जाएं। अब अपने दोनों पैरों को एक साथ जोड़ लें और अब एक गहरी सांस लेकर छोड़ते हुए अपने दोनों हाथों को पैरों की ओर खींचें। इस क्रिया को बार—बार दोहराएं।

नोट : यदि आप इन योगासनों को पहली बार कर रहे हैं तो इसके लिए आप किसी अच्छे योगाचार्य की मदद अवश्य लें।

Share

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *