‘कोरोना’ को लेकर हरियाणा के चर्चित ‘आईपीएस’ का ‘ट्वीट’ हुआ वायरल, पढ़ें आखिर ऐसा क्या लिख दिया..

‘कोरोना’ को लेकर हरियाणा के चर्चित ‘आईपीएस’ का ‘ट्वीट’ हुआ वायरल, पढ़ें आखिर ऐसा क्या लिख दिया..

अपने बेबाक और अलग अंदाज के लिए चर्चित हरियाणा कैडर के आईपीएस पंकज नैन एक बार फिर सोशल मीडिया पर छाए हुए हैं। ट्विटर पर खासे सक्रिय और लोकप्रिय पंकज नैन का एक ट्वीट इन दिनों लोगों द्वारा खूब रीट्वीट किया जा रहा है। आपको बता दें कि दुनिया इस समय कोरोना वायरस से त्रस्त है, वहीं नैन ने अपने एक वीडियो के माध्यम से लोगों को एक बार के लिए सोचने को मजबूर कर दिया है।

40 सेकंड के इस वीडियो को अब तक करीब 60 हजार से भी ज्यादा लोग देख चुके हैं। यही नहीं इस वीडियो के नीचे 4 मार्च को किया गया कमेंट लोगों को इतना सटीक लगा कि 18 घंटे के भीतर ही इसे 15 हजार से ज्यादा लोगों ने रीट्वीट किया और 50 हजार से ज्यादा लोगों के लाइक्स मिल चुके हैं।

यहां देखें में वीडियो : https://twitter.com/ipspankajnain/status/1235168711029518337

नैन ने ठेले पर फास्टफूड आदि बेचने वाले एक दुकानदार द्वारा बर्तनों को नाले के पानी के साथ साफ करते हुए ​वीडियो को अपने ट्विटर अकाउंट पर यह लिखते हुए शेयर किया कि ‘क्या इंडिया में कोरोना वायरस इससे भी ज्यादा खतरनाक है?’ इसके साथ ही उन्होंने नीचे कमेंट्स में लिखा कि भारत में कोरोना वायरस का सिर्फ 1 मामला आया था और लोग मास्क के लिए पागल हो गए। वहीं रोजाना सड़क दुर्घटना में करीब 400 लोग मारे जाते हैं और फिर भी हेलमेट के प्रति कोई क्रेज नहीं है! उनका यह कमेंट्स जनता के बीच चर्चा का विषय तो बना हुआ है ही, साथ ही सोशल मीडिया भी खूब वाहवाही बटोर रहा है।

यहां पढ़ें कमेंट : https://twitter.com/ipspankajnain/status/1235071285027147776

इसलिए चर्चा में र​हते हैं :

ये हरियाणा कैडर के वही आईपीएस आॅफिसर हैं जो जिनका नाम देश के सबसे फिट IPS अधिकारियों में सबसे पहले लिया जाता है। इनके फिटनेस चैलेंज को खुद प्रधानमंत्री मोदी ने स्वीकार किया था। उस समय भी ये काफी चर्चा में रहे थे। उनके वीडियो को भी पीएम ने रीट्वीट किया था। करनाल में एसपी रहते हुए पंकज ने कई अनसुलझे मामलों को न केवल हल किया बल्कि अपराध में भी कमी लाने में मदद की।

‘राहगिरी कार्यक्रम’ की शुरुआत पहली बार उन्होंने ही करी थी जो बाद में सफल जनभागीदारी कार्यक्रम साबित हुआ और फिर इसे पूरे राज्य हरियाणा में एक सार्वजनिक कार्यक्रम के रूप में अपनाया गया। यही नहीं प्रदूषण में कमी, यातायात प्रबंधन और नागरिकों के बेहतर स्वास्थ्य को बढ़ावा देने के लिए ‘कार फ्री डे’ की शुरुआत भी इन्होंने ही करी थी। कुछ समय पहले झज्जर एसपी के दौरान कई अपराध प्रभावित गांवों को गोद लेते हुए वहां खेल और शैक्षिक गतिविधियों को बढ़ावा दिया। वह बुजुर्ग और वरिष्ठ नागरिकों के लिए काम कर रहे हैं।

क्वालिफिकेशन की बात करें तो पंकज ने पंजाब यूनिवर्सिटी चंडीगढ़ से मैकेनिकल में बीटेक की पढ़ाई की है। इसके अलावा पुलिस प्रबंधन में एमबीए और एलएलबी भी की हुई है। आईपीएस बनने से पहले वह मारूति कंपनी में भी काम कर चुके हैं। उन्होंने जॉन हॉपकिंस यूनिवर्सिटी, यूएसए से प्रतिष्ठित ग्लोबल रोड सेफ्टी लीडरशिप कोर्स भी किया है।

Share

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *