एक विधायक ऐसे भी, नकद नहीं थे तो सोने की अंगूठी ही दान में दे दी

एक विधायक ऐसे भी, नकद नहीं थे तो सोने की अंगूठी ही दान में दे दी

– प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र में दे चुके हैं कोरोना बचाव किट

कहते हैं देने वाले की नीयत और भावना देखी जाती है। फिर चाहे दान कुछ भी हो। दुनियाभर में कोरोना महामारी ने कोहराम मचाया हुआ है। ऐसे में लोगों ने मदद के लिए भी खूब हाथ बढ़ाए हुए हैं। लेकिन राजस्थान के ​ए​क विधायक का मुख्यमंत्री राहत कोष में दिया हुआ दान चर्चा का विषय बना हुआ है। साथ ही उनकी ओर से प्रदेश के मुख्यमंत्री को लिखा गया पत्र सोशल मीडिया पर जमकर वायरल भी हो रहा है। ये वही विधायक हैं जो विधानसभा में अपने भाषणों से पहचाने जाते हैं।

पेश की अनूठी मिसाल :

राजस्थान में सीपीआई के विधायक दल के नेता बलवान पूनियां ने गुरुवार को कोविड19 महामारी से लड़ने के लिए मुख्यमंत्री राहत कोष में नकद पैसे न होने के अभाव में अपनी सोने की अंगूठी को ही दान कर दिया। उन्होंने बताया कि उनके पास जो 13,668 रुपए नकद थे उनकी किट खरीदकर भादरा प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र को दे दी। लेकिन मुख्यमंत्री राहत कोष में भी दान देना चाहते थे। इसलिए उन्होंने अपनी सोने की अंगूठी को ही राहत कोष में देने का फैसला किया। बता दें पूनियां वर्तमान में हनुमानगढ़ जिले की भादरा विधानसभा सीट से विधायक हैं।

गुजरात के रत्ना भाई भी बने मिसाल :

हाल ही में गुजरात के पूर्व विधायक रत्ना भाई ठुम्मर ने भी अपने खेती की कमाई से बचाई हुई 51,000 रुपए की राशि प्रधानमंत्री राहत कोष में दी थी। जिसकी पूरे देश ने उनकी तारीफ की थी। बता दें कि ये वही रत्ना भाई हैं जिन्होंने विधायक रहते हुए कभी एक पैसा वेतन नहीं लिया। और न ही आज तक कभी पेंशन ली। अभी वह 99 साल के हैं।

Share

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *