‘लि​पिस्टिक’ के आकार में बनाई ‘गन’ ऐसे बनेगी महिलाओं की ‘सुरक्षाकवच’

‘लि​पिस्टिक’ के आकार में बनाई ‘गन’ ऐसे बनेगी महिलाओं की ‘सुरक्षाकवच’

लि​पिस्टिक, क्रीम हो या पाउडर ये स​ब महिलाओं की खूबसूरती में चार चांद लगाने के काम आते हैं। जो हर महिला के पर्स में आसानी से मिल जाते हैं। यही ​छोटी सी दिखने वाली लि​पिस्टिक अब महिलाओं को ​रोज बढ़ते अपराधों से भी बचाने के काम में आने वाली है। लिपिस्टिक को लेकर ऐसा ही एक आविष्कार किया ​है वाराणासी के ​एक युवा ने। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के संसदीय क्षेत्र वाराणसी के रहने वाले इस युवा वैज्ञानिक का नाम श्याम चौरसिया है।

चौरसिया ने इस सुरक्षा उपकरण का नाम रखा है ‘स्मार्ट एंटी टीजिंग लिपिस्टिक गन’। इससे जरूरत पड़ने पर महिलाएं अपनी मदद खुद कर सकेंगी। प्राप्त जानकारी के अनुसार श्याम चौरसिया वाराणसी के अशोका इंस्टीट्यूट में पार्ट टाइम नौकरी करते हैं। वे पूर्व में भी महिला सुरक्षा को लेकर कई उपकरण बना चुके हैं। लेकिन इस बार उनके द्वारा ​बनाई गई यह लि​पिस्टिक गन काफी अलग है। यह दिखने में बिल्कुल लि​पिस्टिक की तरह है।

आपको बता दें कि इसमें एक ट्रिगर लगा हुआ है। जिसे दबाने पर बंदूक ​की भांति आवाज निकलती है। यह आवाज करीब 1 किलोमीटर तक सुनाई दे सकती है। जिससे मुसीबत में कोई महिला ट्रिगर दबाए तो उसकी आवाज से लोगों का ध्यान उस तरफ जाने से वो बच स​कती है। इसमें ब्लूटूथ सेंसर डिवाइस भी लगा हुआ है। जिसे ट्रिगर के जरिए स्मार्टफोन से कनेक्ट किया जाता है।

लि​पिस्टिक में लगे इस ट्रिगर को दबाने से लाइव लोकेशन के साथ पुलिस कंट्रोल नंबर 112 और परिवार के सदस्यों को फोन मिल जाएगा। इसी के साथ मौके की ऑडियो रिकॉर्डिंग भी परिजनों के मोबाइल्स पर होती रहेगी। साथ ही इस गन में दो माइक भी लगाए गए हैं। जिसकी मदद से इसका इस्तेमाल करने वाली महिला और वहां मौजूद लोगों की आवाज सुनी जा सकती है।

ऐसे में लाइव लोकेशन की मदद से पुलिस घटना स्थल तक आसानी से बिना देरी किए पहुंच सकती है। इसे बनाने में 3.7 प्वॉइंट की बैटरी का प्रयोग किया गया है। आपको हैरानी होगी कि इस गन को बनाने में केवल 650 रुपए के लगभग का खर्चा ही आया है। ज्ञात रहे इससे पहले श्याम एक एंटी रेप सैंडिल भी बना चुके हैं।

Share

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *